Uttar pradeshमंत्री कपिल देव अग्रवाल ने बिजनौर में जिला योजना समिति की बैठक की

Statement Today अब्दुल बासिद/ब्यूरो मुख्यालय: लखनऊ, राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग उ0प्र0 कपिल देव अग्रवाल प्रभारी मंत्री जिला बिजनौर द्वारा जिला योजना की बैठक में सभी अधिकारियांे को सचेत करते हुए कहा कि शासन की मंशा और भावनाओं के अनुरूप कार्य करें और शासन की मंशा के अलावा और कुछ नहीं है और शासकीय योजनाअेां को पूर्ण मानक एवं गुणवत्ता के साथ क्रियान्वित किया जाए और उनका लाभ पंक्ति के...
Statement Today
अब्दुल बासिद/ब्यूरो मुख्यालय: लखनऊ, राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग उ0प्र0 कपिल देव अग्रवाल प्रभारी मंत्री जिला बिजनौर द्वारा जिला योजना की बैठक में सभी अधिकारियांे को सचेत करते हुए कहा कि शासन की मंशा और भावनाओं के अनुरूप कार्य करें और शासन की मंशा के अलावा और कुछ नहीं है और शासकीय योजनाअेां को पूर्ण मानक एवं गुणवत्ता के साथ क्रियान्वित किया जाए और उनका लाभ पंक्ति के अन्त में खड़े व्यक्ति को भी निश्चित रूप से पहुंचे। उन्हेांने कहा कि शासन की दृष्टि में सबसे कमजोर और असहाय व्यक्ति सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है और उसे विकास की मुख्य धारा से जोड़ना प्राथमिकताओं में से एक है। 
उन्होनंे कहा कि अधिकारी अपनी कार्यशैली में अपेक्षित सुधार लायें क्योंकि वे शासकीय सेवक है, जिनके द्वारा शासकीय योजनाओं एवं कार्यक्रमों को धरातल पर लाया जाता है। अतः अपने अधिकारों का प्रयोग सेवाभाव से करें ताकि प्रदेश के नागरिकांे को सरकार द्वारा संचालित जन कल्याणकारी योजनाअेां का भरपूर लाभ प्राप्त हो और प्रदेश को वास्तव में उत्तम प्रदेश के रूप में उदय हो सके। 
उन्हेांने जिलाधिकारी को यह भी निर्देश दिए कि जिला योजना समिति की त्रैमासिक बैठक नियमित रूप से आयोजित करें और सभी जन प्रतिनिधियों को उसमें आमंत्रित कर उनकी समस्याओं का गंभीरता के साथ समाधान करना भी सुनिश्चित करें।
राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), कपिल देव अग्रवाल प्रभारी मंत्री जिला बिजनौर विकास भवन के सभागार में जिला विकास योजना 2019-20 बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपस्थित अधिकारियांे को निर्देश दे रहे थे। बैठक के दौरान जिलाधिकारी रमाकान्त पाण्डेय द्वारा राज्य मंत्री को बुके देकर उनका स्वागत किया गया।
कपिल देव अग्रवाल द्वारा जिले के चैमुखी विकास के लिए रूपये 38937.00 लाख की जिला विकास योजना का अनुमोदन किया गया, जिसमें जनपद के कुल परिव्यय (रू0 38987.00 लाख) का 48.00 प्रतिशत (रू0 18631.23 लाख) पूंजीगत विकास कार्यो के लिऐ प्रस्तावित किया गया है तथा एस0सी0पी0 कम्पोनेन्ट के अन्तर्गत धनराशि रू0 7931.75 लाख का प्रावधान किया गया है। उनके द्वारा बताया गया कि कृषि एवं सम्वर्गीय सेवाओं के लिए रू0 2049.50 लाख, रोजगार परक कार्यक्रम के लिए रू0 8003.06 लाख, शिक्षा एवं स्वास्थ्य के लिए रू0 8132.90 लाख, स्वच्छता, पेयजल एवं आवास के लिए रू0 1639.80 लाख, लाभार्थीपरक कल्याणकारी योजनाओं के लिए रू0 2510.01 लाख, सडक निर्माण के लिए रू0 12460.56 लाख, अन्य निर्माण कार्यो के लिए रू0 2063.24 लाख तथा अन्य कार्यक्रम एवं योजनाओं के लिए रू0 234.80 लाख अनुमोदित किये गये है। उन्होंने निर्देश दिये कि जिले के विकास में किसी भी प्रकार की शिथिलता बर्दाशत नहीं की जाएगी और न ही जन कल्याणकारी योजनाओं में पात्र लोगों को लाभान्वित करने में लापरवाही क्षम्य होगी। उन्होनंे स्पष्ट करते हुए कहा कि उ0प्र0 सरकार की प्राथमिकता है कि प्रदेश में संचालित विभिन्न विकास योजनाओं को मूर्त रूप प्रदान हो और उनका क्रियान्वयन कागजी नक्शों में नहीं बल्कि धरातल पर हो ताकि पंक्ति के अंतिम छोर पर खड़ा असहाय व्यक्ति भी विकास के लाभ का आनंद प्राप्त कर सके। उन्होनंे विद्युत, लोनिवि, स्वास्थ्य और शिक्षा विभाग के अधिकारियों को विशेष रूप से सचेत करते हुए कहा कि विभागीय योजनाओं का गुणवत्तापूर्वक शत प्रतिशत लाभ जनसामान्य को पहुंचाना सुनिश्चित करें क्योंकि इन्हीं विभागों का सीधा सम्बन्ध आम जनता से होता है, इसलिए पूरी निष्ठा और ईमानदारी से संबंधित अधिकारी विभागीय योजनाओं को क्रियान्वित कर जन सामान्य को लाभान्वित करना सुनिश्चित करें। उन्होनंे पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिये कि थाने में अपनी समस्या के लिए आने वाले व्यक्ति का सम्मानपूर्वक स्वागत करने के लिए थानाध्यक्षों को कड़े निर्देश दें कि उसकी समस्या को ध्यानपूर्वक सुनें और पूर्ण गुणवत्ता के साथ उसका समाधान करना सुनिश्चित करंे। उन्होनंे कहा कि स्वच्छता केन्द्र एंव प्रदेश सरकार की प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों में शामिल है अतः नगर एवं ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में विशेष रूप से स्वच्छता कार्यक्रमों का आयोजन कर लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता उत्पन्न की जाए ताकि लोग पे्ररित हो कर स्वच्छता को अंगीकार करंे। उन्हेांने यह भी निर्देश दिये कि प्रत्येक शहर व गांव में स्ट्रीट लाईटों का समुचित प्रबन्ध करना सुनिश्चित करें और उनको जलाने एवं बन्द करने के लिए आॅटोमेशन व्यवस्था की जाए ताकि ऊर्जा का दुरूपयोग न हो सके। उन्होने निदेशक वानिकी से जनपद में कराये गये वृक्षारोपण के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी प्राप्त करते हुए कहा कि जनपद में लगाये गये वृक्षो की सूची ब्लाॅक बार उपलब्ध कराये तथा एक प्रति जिला पंचायत अध्यक्ष, सांसद एवं विधायको को भी उपलब्ध कराये ताकि समय समय पर उनका भौतिक सत्यापन कराया जा सके।
बैठक में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग उ0प्र0 कपिल देव अग्रवाल प्रभारी मंत्री जिला बिजनौर ने स्थानीय विधायकों से अपने-अपने क्षेत्र की समस्याओं की जानकारी प्राप्त की और सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये कि प्राथमिकता एंव गुणवत्ता के आधार पर उनकी समस्याओं का समाधान करना सुनिश्चित करें। उन्होने समस्त अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि जनपद के अन्दर जो विकास कार्य कराये जा रहे है जैसे सडक निर्माण, नलकूप निर्माण, पुलध्पुलिया निर्माण, उनका भौतिक सत्यापन कराने के बाद मा0 सांसद एवं मा0 विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष से उद्घाटन कराये।
जिलाधिकारी रमाकान्त पाण्डेय द्वारा मा0 व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास मंत्री/प्रभारी मंत्री को विश्वास दिलाते हुए कहा कि उनके द्वारा दिये गये निर्देशों का अक्षरत पालन सुनिश्चित किया जाएगा और शासन की मंशा और भावना के अनुरूप शासकीय कार्यक्रमांे एंव योजनाओं को पूर्ण गुणवत्ता और पारदर्शिता के साथ सम्पन्न कराया जाएगा। बैठक से पूर्व मा0 मंत्री द्वारा विकास भवन के प्रांगण में बेटी बचाओं बेटी पढाओं के अन्तर्गत आयोजित चित्रकला प्रर्दशनी का उद्घाटन फीता काटकर किया तथा उन्होने प्रर्दशनी का निरीक्षण किया। प्रर्दशनी के दौरान सहायता समूहों द्वारा स्कूलो के बच्चों केे लिऐ तैयार की गई डैªस एवं बैग आदि का निरीक्षण करते हुए कहा कि स्कूली बच्चो की ड्रेस बनाते समय गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाये तथा स्कूलों में मानक के रूप में सहायता समूह अधिक से अधिक डेªस समय से उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। उसके उपरान्त राज्य मंत्री ने बेटी बचाओं बेटी पढाओं पुस्तक का विमोचन किया और सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओ ंके अन्तर्गत पात्र लाभार्थियों को चेक वितरीत किये। उन्होने रानी लक्ष्मीबाई योजना के तहत दहेज पीडिताओं के बच्चो के उनकी मृत्यु के बाद 3 लाख रूपये का चेक प्रदान किया। उन्होने श्रम विभाग द्वारा आयोजित शिशु हितलाभ योजना के अन्तर्गत 10 लाभार्थियों को चेक दिया तथा चिकित्सा सहायता योजना के अन्तर्गत 20 लाभार्थियों को चेक प्रदान किये। बैठक से पूर्व उन्होंने बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ विषय पर लगाई गयी प्रदर्शनी का भी उद्घाटन किया।
इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष, सांसद नगीना, विधायकगण धामपुर, नहटौर, सदर, चान्दपुर, भाजपा जिला अध्यक्ष, पुलिस अधीक्षक, मुख्य विकास अधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी अधिकारी, उप निदेशक कृषि, अर्थ एवं संख्या अधिकारी, परियोजना निदेशक, जिला योजना समिति के सदस्य सहित सभी प्रशासनिक तथा जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।

2 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *