Editor's Pickमध्यप्रदेश में दोहरा रहा है सिंधिया परिवार इतिहास, दूसरी बार जा रही कांग्रेस सरकार

Statement Today जेड ए खान / सह सम्पादक: मध्यप्रदेश में 53 साल बाद इतिहास एक बार फिर अपने आपको दोहरा रहा है। आज से 53 साल पहले वर्ष 1967 में राजमाता विजयाराजे सिंधिया की वजह से कांग्रेस सत्ता से बेदखल हुई थी। अब उनके पोते ज्योतिरादित्य सिंधिया की वजह से कमलनाथ सरकार सत्ता से बेदखल हो रही है। वर्ष 1967 में विजयाराजे ने कांग्रेस को अलविदा कहकर लोकसभा चुनाव स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर लड़ा और...
Statement Today
जेड ए खान / सह सम्पादक: मध्यप्रदेश में 53 साल बाद इतिहास एक बार फिर अपने आपको दोहरा रहा है। आज से 53 साल पहले वर्ष 1967 में राजमाता विजयाराजे सिंधिया की वजह से कांग्रेस सत्ता से बेदखल हुई थी। अब उनके पोते ज्योतिरादित्य सिंधिया की वजह से कमलनाथ सरकार सत्ता से बेदखल हो रही है। वर्ष 1967 में विजयाराजे ने कांग्रेस को अलविदा कहकर लोकसभा चुनाव स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर लड़ा और जीत दर्ज की।
अब ज्योतिरदित्य भाजपा से राज्यसभा में जाने वाले हैं। उल्लेखनीय है कि वर्ष 1967 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को बहुमत हासिल हुआ था और डीपी मिश्रा मुख्यमंत्री बने थे। लेकिन बाद में कांग्रेस के 36 विधायकों ने विजयाराजे के प्रति अपनी निष्ठा जाहिर की और विपक्ष से जा मिले। मिश्रा को इस्तीफा देना पड़ा था।
अब एक बार फिर वही पटकथा लिखी गई है। ज्योतिरादित्य खेमे के 20 कांग्रेसी विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है। इस्तीफा स्वीकार होते ही कमलनाथ सरकार विधानसभा में अल्पमत में आ जाएगी। ऐसे में भाजपा कमलनाथ सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी और कमलनाथ सरकार गिर सकती है।
दरअसल, ग्वालियर में 1967 में एक छात्र आंदोलन हुआ था। इस आंदोलन को लेकर राजमाता की उस समय के सीएम डीपी मिश्रा से अनबन हो गई थी। उसके बाद उन्होंने कांग्रेस छोड़ दी। बाद में राजमाता सिंधिया गुना संसदीय सीट से स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में लोकसभा का चुनाव जीत गईं।
इसके बाद सिंधिया ने कांग्रेस में फूट का फायदा उठाते हुए 36 विधायकों के समर्थन वाले सतना के गोविंदनारायण सिंह को मुख्यमंत्री बनवाकर प्रदेश में पहली गैर कांग्रेसी सरकार बनवा दी थी। कांग्रेस छोडऩे के बाद राजमाता जनसंघ से जुड़ीं और बाद में भाजपा की फाउंडर सदस्य बनीं। राजमाता को भाजपा का उपाध्यक्ष बनाया गया। वर्ष 1967 से जुड़ी कहानी आज फिर दोहराई जा रही है। एक-एक कर किरदार अपना रोल अदा कर रहे हैं।

7 comments

  • vurtilopmer

    March 28, 2020 at 11:15 pm

    you have a great blog here! would you like to make some invite posts on my blog?

    Reply

  • cialis 20mg

    April 8, 2020 at 2:01 pm

    constantly round [url=http://cialisles.com/#]cialis 20mg[/url] relatively counter ahead head online
    cialis prescription right swing cialis 20mg gross hello http://www.cialisles.com/

    Reply

  • smore traiolit

    April 14, 2020 at 12:38 am

    I keep listening to the news update lecture about receiving free online grant applications so I have been looking around for the most excellent site to get one. Could you tell me please, where could i acquire some?

    Reply

  • Pingback: vagragenericaar.org

  • Pingback: ventolin inhaler

  • smore traiolit

    April 16, 2020 at 5:38 pm

    Only a smiling visitant here to share the love (:, btw outstanding design and style. “Everything should be made as simple as possible, but not one bit simpler.” by Albert Einstein.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *